अंगद का पांव बना वाटर वक्र्स रोड का टैक्सी स्टैण्ड

0 8

अतिक्रमण अभियान में हर बार अछूता रहा यह प्वाइंट

बदायूं। शहर में व्याप्त अतिक्रमण और जाम की समस्या आमजन को बवाल ए जान बन रहा है। गौर करने लायक है कि यहां प्रतिदिन दोपहर 2 बजे प्रत्येक चौराहा तिराहा अनगिनत वाहनों से जाम हो जाता है। इस महत्वपूर्ण समस्या का मूल कारण अतिक्रमण हावी होना है।
इस मुददे पर गौर करें तो शहर में घंटाघर तिराहे के आस पास अक्सर जाम लगता है। इसकी वहज बड़ा बाजार में दुकानों के आगे फुटपाथ पर सजने वाला सामान बनता है। इसी इलाके के जाम का सबव नेहरु चौक पर सडक़ किनारे और नेहरु प्रतिमा के चारों ओर खड़े होने वाले रेहड़ी और हाथठेलें बनते आ रहे हैं। जिसका असर नगर पालिका गेट से लेकर जोगीपुरा, लोटनपुरा चौराहा एवं एसबीआई बैंक शाखा तक पड़ता है। इसी प्रकार छह सडक़ा पर जाम लगने का कारण इस मार्केट में सडक़ों पर खड़े होने वाले ग्राहकों के वाहन रहते हैं। इस क्षेत्र के अतिक्रमण का असर गांधी ग्राउण्ड मंदिर वाले चौराहे तक आम रहता है।

यह तो दोपहर के समय लगने वाले जाम के मुख्य कारक रहे। अब लावेला चौक से रोडवेज चौराहा और प्राइवेट बस स्टैण्ड के जाम पर गौर किया जाए तो यहां इस समस्या की मूल वजह सडक़ों के दोनो ओर खड़ी होने वाली रोडवेज बसें तथा वाटर वक्र्स रोड का टैक्सी वाहन स्टैण्ड है। उल्लेखनीय है कि एआरटीओ, नगर पालिका प्रशासन तथा पुलिस के सहयोग से जब-जब अतिक्रमण के विरुद्ध अभियान चला है तब-तब अस्थाई टैक्सी स्टैण्ड अंगद के पांव की तरह तटस्थ रहा है। इसकी अन्दरुनी वजह टैक्सी चालकों और वाहन मालिकों को एक जन प्रतिनिधि का बरदहस्त हासिल होना माना जा रहा।

बहरहाल शहरभर में लाइलाज बीमारी की तरह व्याप्त अतिक्रमण एवं वेतरतीव ढंग से खड़े होने वाले वाहनों से लगने वाला जाम आमजन को बवाल ए जान बन चुका है। जिसका फिलहाल पुख्ता इंतजाम नहीं दिख रहा है।

Leave A Reply

Your email address will not be published.